Tata Docomo ने दूरसंचार सेवाएं बंद करने का निर्णय लिया

0
63

Tata Docomo ने अपने दूरसंचार सेवा को अगले हफ्ते तक बंद करने की तैयारी शुरू कर दी है। टाटा ग्रुप ने आधिकारिक ट्वीट में भारत सरकार/डीओटी को ये सूचना दी है कि वो टाटा टेलीसर्विसेज (टाटा डोकोमो) को बंद करने जा रही है।

टाटा टेलीसर्विसेज ग्रुप की पहली ऐसी कंपनी होगी, जिसे 149 सालों के इतिहास में बंद किया जा रहा है। टाटा टेलीसर्विसेज की स्‍थापना 1996 में लैंडलाइन ऑपरेशन के साथ की गई थी। इसने 2002 में सीडीएमए ऑपरेशन लॉन्‍च किया था। 

सूत्रों की मानें तो टाटा की टेलीकॉम सेवा लंबे समय से घाटे में चल रही थी। इस यूनिट को बेचने में नाकाम रहने के बाद चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन अब इस कारोबार को समटने पर विचार कर रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक ग्रुप की इस कंपनी पर 34,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। साथ ही कर्ज देने वाली संस्थाएं भी राशि वसूलने के लिए दबाव बना रही हैं।

टाटा डोकोमो के पास इस वक्त देश के करीब 4.5 करोड़ लोगों का सब्सक्रिप्शन है। वहीं इस वक्त भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में इस कंपनी की 4 प्रतिशत की हिस्सेदारी है। 

टाटा डोकोमो:

टाटा डोकोमो, टाटा टेलिसर्विसेज लिमिटेड (TTSL) की एक दूरसंचार सेवा है जो जीएसएम प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है। इसकी शुरुआत नवंबर 2008 में प्रमुख जापानी दूरसंचार कंपनी एनटीटी डोकोमो और टाटा समूह के बीच हुये एक रणनीतिक गठबंधन के फलस्वरूप हुई है। डोकोमो (DoCoMo) शब्द, “Doing the Communications over Mobile network” से जुड़ कर बना है, वैसे जापानी भाषा में डोकोमो का अर्थ “सर्वत्र” होता है। टाटा टेली सर्विसेज को जीएसएम सेवाओं के लिए अखिल भारतीय लाईसेंस मिला है और इन सेवाओं का परिचालन उसे टाटा डोकोमो के ब्रांड नाम के तहत करना है, इसके अलावा कंपनी को 18 दूरसंचार सर्किलों में भी स्पेक्ट्रम आवंटित किया गया है। टाटा टेलिसर्विसेज लिमिटेड ने इन सेवाओं की शुरुआत विभिन्न क्षेत्रों में कर भी दी है।

यह मोबाइल सेवा दोनों, प्रीपेड और पोस्टपैड जीएसएम मोबाइल के सेवा उपलब्ध कराती है और अन्य सेवाए जैसे की जीपीआरएस आदि भी निवेदन पर चालू की जा सकती है।