11 अक्टूबर: अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस

0
42

विश्वस्तर पर 11 अक्टूबर 2017 को अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 19 दिसंबर 2011 को प्रस्ताव संख्या 66/170 को पारित किया। इस मंजूरी के साथ प्रत्येक वर्ष 11 अक्टूबर को ‘अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस’ के रूप में मनाने की घोषणा की गई। इस दिवस का उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों का संरक्षण करना और उनके समक्ष आने वाली चुनौतियों की पहचान करना है।

वर्ष 2017 के लिए इस दिवस का विषय- कन्या सशक्तिकरण: संकट से पहले, संकट के समय और संकट के बाद (Empower girls: Before, during and after crises) को निर्धारित किया गया है। पहले अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का विषय बाल विवाह की समाप्ति रहा है।

इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र ने संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों, सदस्यों, नागरिक समाज संगठनों और निजी क्षेत्र के उपक्रमों से सतत विकास के केंद्र में बालिकाओं को लाने का अनुरोध किया है। बालिकाओं को संरक्षण और सशक्त करने के लिए ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना की शुरुआत वर्ष 2015 में हुआ था। पहला अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस विश्वभर में 11 अक्टूबर 2012 को मनाया गया।

बालिकाओं के लिए उच्च गुणवत्ता की शिक्षा, कौशल, प्रशिक्षण और प्रौद्योगिकी में निवेश कर इन तक उनकी पहुँच सुनिश्चित की जाए जिससे रोजगार के लिए उन्हें तैयार किया जा सके। सभी क्षेत्रों में लिंग उत्तरदायी कानून और नीतियों को बढ़ावा दिया जाए। विशेष रूप से विकलांग कमजोर, उपेक्षित, तस्करी और यौन शोषण की शिकार बालिकाओं के लिए।

इसके अतिरिक्त किशोरावस्था में आवश्यक पोषण तत्वों में निवेश किया जाए और उन्हें यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य शिक्षा प्रदान की जाए। शारीरिक, मानसिक और यौन हिंसा के खिलाफ सहनशीलता समाप्त करना, बाल विवाह और जननांग विकृति को ख़त्म करने के क्रम में सामाजिक, आर्थिक और नीति तंत्र को विकसित किया जाए।