1 दिसंबर से सभी फोर व्हीलर वाहनों पर फास्टैग लगाना अनिवार्य

0
17

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने 1 दिसम्बर,2017 से बेचे जाने वाले नए चार पहिया वाहनों के लिए फास्टैग लगाना अनिवार्य कर दिया है। टोल प्लाजा पर टोल भरने के लिए रुकने में समय खर्च होने की समस्या को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। सरकार का लक्ष्य है कि वर्ष 2019 तक 80 फीसदी वाहनों को फास्ट टैग युक्त किया जाए।

क्‍या होगा फायदा ?

जब वाहन किसी भी टोल प्लाजा से गुजरता है तो वहां वाहन चालक को रुककर टोल देने की जरूरत नहीं होगी। FASTag की वजह से गाड़ियां टोल प्लैजा पर बिना लाइन में लगे ही तेजी से निकल सकती हैं। फास्ट टैग मोबाइल एप पर भी उपलब्ध है, जिससे जरूरतमंद खरीद सकते हैं। इसके अलावा एसबीआई समेत देश के लगभग सभी बड़े बैंक आपको फास्ट टैग मुहैया करते हैं। एनएचएआई के मुताबिक इसकी वैलिडिटी 5 साल तक होती है। इस टैग को खरीदा जा सकता है और इसे प्रीपेड एकाउंट से लिंक करने पर वाहन चालक को समय-समय पर इसे रीचार्ज कराना होगा।

फास्टैग(FASTag):

FASTag एक उपकरण है जिसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचान आरएफआईडी प्रौद्योगिकी (RFID) का इस्तेमाल होता है। इसके जरिए टोल का भुगतान प्रीपेड या सम्बद्ध बचत खाते से सीधे किया जा सकता है। इसे वाहन के अगले शीशे पर लगाया जाता है और ऐसे वाहन को टोल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं होती। वाहनों पर लगे इन फास्टैग से टोल प्लाजा पर लगे इलेक्ट्रॉनिक टोल सिस्टम (ईटीसी) टैक्स का भुगतान ऑटोमेटिक हो जाएगा।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय:

परिवहन मंत्री – नितिन गडकरी
परिवहन राज्य मंत्री – श्री पी. राधाकृष्णन, मनसुख एल मंदाविया