हिमाचल प्रदेश ने ट्रैकर्स के लिए जीपीएस डिवाइस को अनिवार्य किया

0
21

हिमाचल प्रदेश सरकार ने ट्रैकर्स के लिए जीपीएस डिवाइस अपने साथ ले जाना अनिवार्य कर दिया है, इससे किसी विपरीत स्थिति से निपटने में सहायता मिलेगी। यह निर्णय मानसून की तैयारी की समीक्षा के लिए बैठक में लिया गया है।

शीघ्र ही हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले तथा डलहौज़ी कसबे में अर्ली वार्निंग सिस्टम की स्थापना की जायेगी। मंडी तथा रामपुर कस्बे में राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (NDRF) के बचाव व राहत बेस की स्थापना की जायेगी।

हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक आपदा की सम्भावना काफी अधिक होती है, इसलिए राज्य में मौसम सम्बन्धी सूचना का प्रसारण तथा अर्ली वार्निंग सिस्टम की स्थापना किया जाना आवश्यक है। ख़राब मौसम में ट्रैकिंग तथा यात्रा इत्यादि पर भी पाबंदी लगाई जाने ज़रूरी है।

हिमाचल प्रदेश:

हिमाचल प्रदेश के उत्तर में जम्मू-कश्मीर, पूर्व में तिब्बत, दक्षिण-पूर्व में उत्तराखंड, दक्षिण में हरियाणा तथा पश्चिम में पंजाब स्थित है। प्रदेश को 25 जनवरी, 1971 को पूर्ण राज्य का दर्ज़ा मिला था, यह भारत का 18वां राज्य था। हिमाचल प्रदेश की दो राजधानियां हैं : शिमला और धर्मशाला (शीतकालीन राजधानी)।