सुमन कुमारी पाकिस्तान की पहली हिन्दू जज बनी

0
121

पाकिस्तान की हिन्दू महिला सुमन कुमारी जज बन गई हैं। वह जज बनने वाली पाकिस्तान की पहली हिन्दू महिला हैं। इससे पहले पाकिस्तान में किसी भी हिन्दू महिला को न्यायिक पद या इस प्रकार के किसी भी पद में शामिल नहीं किया गया था। सुमन कुमार पाकिस्तान में सिविल जज बन गई हैं।

सुमन न्यायिक अधिकारियों की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद हिन्दी महिला को सिविल न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। सुमन ने सिविल जज के लिए जारी की गई रैंकिंग में 54वां स्थान हासिल किया। सुमन कुमार पाकिस्तान के सिंध प्रांत के कंबर-शहाददकोट की रहने वाली हैं। वह अपने गृह जिले में सिविल जज के रूप में सेवाएं देंगी।

सुमन कुमारीः

सुमन कुमारी हैदराबाद से एलएलबी और कराची की सैयद जुल्फीकार अली भुट्टो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान से कानून में परास्नातक की पढ़ाई की है। उनके पिता नेत्र रोग विशेषज्ञ हैं तथा उनका बड़ा भाई साफ्टवेयर इंजीनियर है। छोटी बहन चार्टर्ड अकाउंटेंट है।

उन्होंने कानून की पढ़ाई के साथ-साथ दो वर्षों तक कराची के मशहूर वकील रिटायर्ड जस्टिस रशीद रिजवी के लॉ फर्म में प्रैक्टिस की। सुमन अपने इलाके के गरीबों को मुफ्त कानून सहायता मुहैया करना चाहती हैं।

ज्ञातव्य है कि सुमन से पहले पाकिस्तान में पुरूष हिन्दू जज बन चुके हैं। पाकिस्तान के पहले हिन्दू जज राना भगवानदास थे। न्यायमूर्ति राना भगवानदास वर्ष 1960 से 1968 तक पाकिस्तान के मुख्य न्यायधीश भी रहे। इसे अतिरिक्त भगवानदास ने वर्ष 2005 से 2007 तक कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभाला था।