सतीश रेड्डी को मिसाइल सिस्टम अवार्ड से सम्मानित किया गया

0
47

वैज्ञानिक व रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO) के चेयरमेन सतीश रेड्डी को अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ़ एरोनॉटिक्स एंड एस्ट्रोनॉटिक्स द्वारा मिसाइल सिस्टम अवार्ड से सम्मानित किया। सतीश रेड्डी ने यह पुरस्कार रेथियोन मिसाइल सिस्टम्स के प्रिंसिपल इंजीनियरिंग फेलो रोंडेल जे. विल्सन के साथ साझा किया गया। वे पिछले चार दशक में इस पुरस्कार को जीतने वाले पहले भारतीय तथा गैर-अमरीकी हैं।

सतीश रेड्डी:

  • सतीश रेड्डी रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार हैं। उन्हें भारत में एडवांस्ड मिसाइल टेक्नोलॉजी तथा स्मार्ट गाइडेड हथियार तकनीक का निर्माता माना जाता है।
  • सतीश रेड्डी रॉयल एयरोनॉटिकल सोसाइटी, लन्दन से सिल्वर मैडल प्राप्त करने वाले पहले भारतीय वैज्ञानिक हैं।
  • सतीश रेड्डी ने कई मिसाइल सिस्टम जैसे हेलिना व नाग इत्यादि के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
  • सतीश रेड्डी देश के पहले 1000 किलोग्राम श्रेणी गाइडेड बम के डिजाईन व विकास के प्रोजेक्ट डायरेक्टर थे।

अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ़ एरोनॉटिक्स एंड एस्ट्रोनॉटिक्स:

अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ़ एरोनॉटिक्स एंड एस्ट्रोनॉटिक्स एयरोस्पेस  इंजिनियर्स की व्यावसायिक सोसाइटी है। इसका उद्देश्य एयरोस्पेस की भूमिका व महत्व को रेखांकित करना है। मिसाइल सिस्टम अवार्ड मिसाइल सिस्टम टेक्नोलॉजी के विकास में महत्वपूर्ण नेतृत्व भूमिका निभाने के लिए प्रदान किया जाता है।