विश्व का पहला मानवतावादी फोरेंसिक केंद्र गुजरात में शुरू हुआ

0
18

20 जून 2018 को विश्व का पहला अंतर्राष्ट्रीय मानवतावादी फोरेंसिक केंद्र गुजरात के गांधीनगर में शुरू हुआ। यह भारत, भूटान, नेपाल और मालदीव और गुजरात फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी में रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय समिति के क्षेत्रीय प्रतिनिधिमंडल का संयुक्त उद्यम है।

यह केंद्र रेड क्रॉस द्वारा किए जाने वाले कार्यों जैसे गुजरात भूकंप के दौरान आपातकाल और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान किये गये मानवीय प्रयासों जैसे कार्यों में सहायता प्रदान  करेगा। यह न केवल आपदाओं या आपातकाल के दौरान मृतकों के प्रबंधन के लिए कार्य करेगा बल्कि उनकी पहचान में भी सहायक भूमिका निभाएगा।

यह संयुक्त परियोजना भविष्य में मानवतावादी कार्य योजना का प्रतिनिधित्व करती है। यह किसी आपदा द्वारा लोगों के मरने से पहले क्षमताओं का निर्माण करने के लिए स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञता को भी स्थान देगा।

यह वैश्विक उच्च गुणवत्ता और टिकाऊ क्षमता निर्माण, अनुसंधान और अभिनव परियोजनाओं के लिए एशिया में उत्कृष्टता का वन-स्टॉप सेंटर हो सकता है जो प्रासंगिक संदर्भों में मानवीय फोरेंसिक उद्देश्यों के लिए परिचालन प्रतिक्रियाओं को कम करेगा। गुजरात फोरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी, मानवतावादी फोरेंसिक में दो अलग-अलग स्नातकोत्तर और स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम चलाएगी।