रियल एस्टेट सेक्टर को बढ़ावा देने के लिये GoM का गठन

0
118

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल की अगुवाई में एक मंत्रिस्तरीय समूह का गठन किया गया है जो एक कंपोज़िशन स्कीम (composition scheme) तैयार करने के अलावा रियल स्टेट के क्षेत्र में GST दर को युक्तिसंगत बनाने की संभावनाओं की तलाश करेगा। GST प्रणाली के तहत रियल एस्टेट क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिये इस 7-सदस्यीय मंत्री समूह (Group of Ministers-GoM) के गठन का निर्णय हाल ही में हुई GST परिषद की बैठक के दौरान लिया गया था।

GoM के सचिव मनीष सिन्हा, संयुक्त सचिव (TRU-ll), केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क (CBIC) होंगे।

मंत्री समूह के सदस्य

  1. नितिन पटेलः उप मुख्यमंत्री, गुजरात समूह के संयोजक होंगे।
  2. सुधीर मुनगंटीवारः वित्त मंत्री, महाराष्ट्र समूह के सदस्य होंगे।
  3. कृष्णा बायर गौड़ाः वित्त मंत्री, कर्नाटक समूह के सदस्य होंगे।
  4. डॉ. टी.एम. थॉमस इसाकः वित्त मंत्री, केरल समूह के सदस्य होंगे।
  5. मनप्रीत सिंह बादलः वित्त मंत्री, पंजाब समूह के सदस्य होंगे।
  6. राजेश अग्रवालः वित्त मंत्री, उत्तर प्रदेश समूह के सदस्य होंगे।
  7. मौविन गोडिन्होः पंचायत मंत्री, गोवा समूह के सदस्य होंगे।
  • GoM के विचारार्थ विषयों में इस सेक्टर के लिये एक कंपोजिशन स्कीम तैयार करने के तरीके सुझाना शामिल है।
  • GoM, रियल एस्टेट क्षेत्र को बढ़ावा देने के प्रस्ताव के तहत उत्पन्न होने वाले मुद्दों और चुनौतियों सहित GST के अंतर्गत कर की दरों का भी विश्लेषण करेगा।
  • यह समूह कंपोज़िशन स्कीम में ज़मीन के समावेशन/अपवर्जन या किसी अन्य घटक को शामिल करने की वैधानिकता की जाँच करेगा और मूल्यांकन प्रक्रिया संबंधी सुझाव भी देगा।
  • यह समूह एक संयुक्त समझौते और उपयुक्त मॉडल में विकास अधिकारों के हस्तांतरण और विकास अधिकारों पर GST के विभिन्न पहलुओं की भी जाँच करेगा।
  • GoM के अन्य मंत्रियों में महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, पंजाब और उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री तथा गोवा के पंचायत मंत्री मौविन गोडिन्हो (Mauvin Godinho) शामिल हैं।
  • वर्तमान में निर्माणाधीन संपत्ति या रेडी-टू-मूव-इन (ready-to-move-in) फ्लैट्स, जहाँ बिक्री के समय पूर्णता प्रमाण-पत्र जारी नहीं किया गया है, के मामले में किये गए भुगतान पर 12% GST लगाया जाता है।
  • GST लागू होने से पहले इस तरह की संपत्ति पर 15-18% कर लगाया जाता था।
  • हालाँकि, ऐसी रियल एस्टेट परिसंपत्तियों के खरीदारों पर GST नहीं लगाया जाता है जिनकी बिक्री के समय पूर्णता-प्रमाण पत्र जारी किया गया हो।