रसायन विज्ञान के नोबल पुरस्कार की घोषणा

0
32

रसायन में वर्ष 2017 के नोबल पुरस्कार के लिए तीन वैज्ञानिकों का चयन किया गया है। नोबल पुरस्कार चयन समिति द्वारा चयनित वैज्ञानिक हैं, जेक्स डबशेट, जोशीम फ्रैंक और रिचर्ड हेंडरसन।

नोबल पुरस्कार समिति द्वारा की गयी घोषणा के अनुसार सूक्ष्म और ठंड से जमे हुए अणुओं की तस्वीर उतारने के लिए कारगर पद्धति क्रायो- इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कॉपी विकसित करने पर इन वैज्ञानिकों का चयन किया गया है।
इन तीनों वैज्ञानिकों की खोज के परिणामस्वरूप विकसित की गयी नई तकनीक से बायोमॉलिक्यूल्स का थ्रीडी ढांचा तैयार किया जा सकता है, जो कि इस क्षेत्र की बहुत बड़ी उपलब्धि है। पुरस्कार स्वरुप तीनों वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से 11 लाख डॉलर दिए जायेंगे।

वैज्ञानिकों की खोज:

बायोमॉलिक्यूल दरअसल जीवों के उपापचय प्रक्रिया में शामिल होता है। इस पद्धति को विकसित करने के लिए बेहद महीन और सूक्ष्म तस्वीरों को उतारना अपने-आप में चुनौती था। शारीरिक ढांचे में कोशिकाओं की तस्वीर लेने के लिए इलेक्ट्रॉन बीम का प्रयोग किया गया।

नोबल पुरस्कार समिति का कहना है कि इन वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गयी उपलब्धि की बदौलत वैज्ञानिक अब बायोमॉलिक्यूल को मध्यावधि में ही जमा सकते हैं और इस पूरी प्रक्रिया को एक दृश्य का रूप दे सकते हैं। इससे जीवन को समझने तथा बीमारियों की रोकथाम के लिए दवाओं के विकास में सहायता मिलेगी।

नोबल पुरस्कार समिति ने बयान में कहा कि शोधकर्ताओं को जब संदेह हुआ कि जीका विषाणु ब्राजील में नवजात शिशुओं के मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा कर महामारी फैला रहा है तब उन्होंने विषाणु को चित्रात्मक रूप देने के लिए क्रायो इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी का रुख किया।