मिस्र के पुरातत्वविदों ने खोजी 4500 साल पुरानी कब्रें

0
18

हाल ही में मिस्र के पुरातत्वविदों ने 4,500 साल पुरानी गीज़ा के पिरामिडों में दो प्राचीन कब्रों की खोज की है। सरकारी अधिकारियों के अनुसार, ये कब्रें दो उच्च श्रेणी के पुरुषों से संबंधित थीं, जो किंग खफरे के पुजारियों में शामिल थे।

मकबरे में एक आदमी का नाम बिहनुई-का था, जिसके पास पुरोहित और जज से लेकर फरोह समेत सात उपाधियां थीं। यह काहिरा के पास गीज़ा पठार पर मिस्र के प्रसिद्ध पिरामिडों के पास पायी गयी हैं। मिस्र के पुरातत्वविदों के अनुसार यह 2563 – 2423 ईसा पूर्व के बीच पांचवें राजवंश काल का हो सकता है।

मुख्यांश:

  • यह मकबरा टूटू नाम के एक व्यक्ति का है। जो उनके और उनकी पत्नी के लिए एक जगह थी।
  • यह भी पता चला कि टूटू की पत्नी एक संगीतकार के रूप में सिस्टरम वाद्य यंत्र बजाती थी।
  • कब्रों में कब्रों के अलावा, इस खोज में कब्र के मालिकों, उनकी पत्नी और बेटे की चूना पत्थर से बनी मूर्तियाँ भी मिलीं हैं।
  • दूसरी कब्र न्वी नाम के व्यक्ति की थी, जो महान राज्य के प्रमुख के रूप में सेवा करता था और खफरे का ’शुद्धीकरण’करता था।
  • कब्र में कई कलाकृतियाँ पाई गई हैं जिसमें एक मकबरे के मालिक, उसकी पत्नी और बेटे की चूना पत्थर की मूर्तियों के अलावा सियार की सुरत जैसी मूर्तियाँ भी शामिल हैं।
  • नए खोजे गए दफन स्थल पर ममीकृत चूहे और फाल्कन्स भी पाए गए थे।

वैली ऑफ किंग्स:

वैली ऑफ किंग्स मिस्र में एक घाटी है जहां चट्टानों की काटी कब्रों की खुदाई न्यू किंगडम के शक्तिशाली रईसों (प्राचीन मिस्र के अठारहवीं से बीसवीं राजवंशों के लिए) के लिए की गई थी। घाटी नील के पश्चिमी तट पर स्थित है, जो थेब्बन नेक्रोपोलिस के दिल के भीतर थेब्स (आधुनिक लक्सर) के सामने है। इस क्षेत्र में दो घाटियाँ हैं, पूर्वी घाटी (जहाँ अधिकांश शाही कब्रें स्थित हैं) और पश्चिमी घाटी।