भौतिकी का नोबेल पुरस्कार 2018

0
280

वर्ष 2018 का भौतिकी का नोबेल पुरस्कार अमेरिका के डॉ. आर्थर अश्किन, फ्रांस के डॉक्टर जेरार्ड मोरो और कनाडा की डॉ. डोना स्ट्रिकलैंड को दिया जाएगा। भौतिकी के नोबेल पुरस्कार की घोषणा 2 अक्टूबर, 2018 को की गई। इन तीनों वैज्ञानिकों को लेजर फिजिक्स में शोध के लिए नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा।

स्ट्रिकलैंड तथा मोरो द्वारा बहुत छोटा तथा गहन लेजर पल्स, जिसे ‘चिर्प्ड पल्स एमप्लिफिकेशन’ कहा जाता है, की वजह से सामग्रियों में बहुत सटीक काटना या ड्रिल करना संभव हो पाया। आंखों का ऑपरेशन भी इससे संभव हो सका।

अश्किन ने ऑप्टिकल ट्वीजर्स का विकास किया। इसकी वजह से लेजर बीम फिंगर्स के द्वारा वस्तुओं को पकड़ने, प्रेक्षण करने व गति देने में मदद मिलती है।

9 मिलियन स्वीडिश क्रॉनर पुरस्कार राशि में से पचास फीसदी राशि अश्किन को जबकि शेष राशि स्ट्रिकलैंड तथा मोरो के बीच वितरित किए जाएंगे।

ध्यान देने योग्य है कि उपर्युक्त तीन वैज्ञानिकों में कनाडा की डॉ. डोना स्ट्रिकलैंड विगत 55 वर्षों में पहली महिला हैं जिन्हें भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। इससे पहले 1903 में मैडम क्युरी (विकिरण की खोज) तथा 1963 में मारिया गोएपर्ट मेयर (आण्विक संरचना) को भौतिकी के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जा चूका हैं।