भारत कच्चे इस्पात का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश बना

0
41

स्टील यूजर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया( सूफी) के अनुसार भारत क्रूड स्टील अथवा कच्चे इस्पात के उत्पादन में दूसरे स्थान पर पहुँच गया है। भारत ने जापान को पीछे छोड़ते हुए क्रूड स्टील उत्पादन में यह स्थान हासिल किया है। इससे पहले भारत तीसरे स्थान पर था। चीन कच्चे स्टील उत्पादन में पहले स्थान पर है। कुल वैश्विक उत्पादन में चीन की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक है।

भारत का क्रूड स्टील उत्पादन अप्रैल, 2017 से फरवरी, 2018 के दौरान 4.4 प्रतिशत बढ़कर 9.31 करोड़ टन पर पहुंच गया।

वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन के मुताबिक भारत ने फरवरी 2018 में 8.4 लाख टन कच्चे स्टील का उत्पादन किया है। जो पिछले वर्ष फरवरी के मुकाबले 3.4 फीसदी अधिक है। भारत कच्चे स्टील के उत्पादन के मामले में निरंतर वृद्धि कर रहा है।

स्टील यूजर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के मुताबिक सरकार द्वारा बनाई गई नीतियों से देश में स्टील उत्पादन में वृद्धि देखने को मिली हैं। फेडरेशन के अनुसार ‘मेक इन इंडिया जैसे महत्वपूर्ण अभियानों से स्टील की घरेलू मांग में निरंतर वृद्धि हुई है।

ज्ञातव्‍य है कि लौह अयस्क से इस्पात बनाने की प्रक्रिया का दूसरा चरण इस्पात निर्माण है। भारतीय इस्पात क्षेत्र में लगभग 2 प्रतिशत का योगदान करता है। वर्ष 2016-17 में बिक्री के लिए 100 एमटी उत्पादन के स्तर को पार किया है।

नई इस्पात नीति 2017 के तहत 2030 तक 300 एमटी इस्पात बनाने की क्षमता हासिल करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए 2030-31 तक 10 लाख करोड़ रुपये का अतिरिक्त निवेश होगा।