बीआइएफएल ने इंडसइंड बैंक में विलय की घोषणा की

0
29

इंडसइंड बैंक और देश के दूसरी सबसे बड़ी माइक्रो फाइनेंस कंपनी भारत फाइनेंशियल इंक्लूजन लिमिटेड (बीएफआइएल) ने विलय की घोषणा की है। माइक्रो फाइनेंस इंडस्ट्री के इस सबसे बड़े विलय के लिए सभी शेयरों का अधिग्रहण किया जाएगा। बीएफआइएल के इस विलय से इंडसइंड बैंक को 68 लाख नये ग्राहक मिलेंगे।

इंडसइंड बैंक बीएफआइएल का अधिग्रहण करने के बाद देश के ग्रामीण क्षेत्र तक अपनी पहुंच बना सकेगा और उसके नेटवर्क का इस्तेमाल करके छोटे कर्ज देने की लागत को कम कर सकेगा। दोनों कम्पनियों के मध्य काफी समय से इस मामले को लेकर बातचीत की जा रही थी।

प्रमुख तथ्य:

  • बीएफआइएल समूची पूंजी, एसेट और लायबिलिटी इंडसइंड को मिल जाएगी। बीआइएफएल की पूरी टीम इंडसइंड बैंक की सहायक कंपनी और बिजनेस कोरेस्पोंडेट के रूप में स्वतंत्र रूप से काम करेगी।
  • इस विलय के बाद इंडसइंड बैंक गांवों में आसानी से अपनी पहुंच बना सकेगा। बैंक की कुल 1210 शाखाओं में से इस समय गांवों में सिर्फ 250 शाखाएं हैं। दूसरी ओर बीएफआइएल का नेटवर्क पूरे देश में एक लाख गांवों तक फैला है। विलय के बाद वह ग्राहकों को महज माइक्रो फाइनेंस कंपनी के बजाय पूरे बैंक के तौर पर सेवाएं दे सकेगी।
  • विलय के बाद इंडसइंड बैंक के कुल कर्मचारी 40 हजार होंगे। बीएफआइएल के 15 हजार कर्मचारी पूर्ववत सेवा शर्तो पर काम करते रहेंगे। हिंदूजा ग्रुप के बैंक इंडसइंड बैंक के बोर्ड में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा।