फिल्म निर्देशक मृणाल सेन का निधन

0
77

प्रख्यात फिल्म निर्देशक श्री मृणाल सेन का 95 वर्ष की आयु में 30 दिसंबर, 2018 को कोलकाता में निधन हो गया।
उनका जन्म 1923 में फरीदपुर (अब बांग्लादेश) में हुआ था।

निर्देशक के रूप में उनके कॅरियर की शुरुआत 1955 में ‘रात भोरे’ से हुयी थी।

वे मुख्यतः सामाजिक-राजनीतिक मुद्दों पर फिल्म बनाने के लिए जाने जाते थे।

एक दिन अचानक, पदातिक, मृगया, अकालेर संधाने, कोरस, खानदहर, भूवन शोमे, आकाश कुसुम एवं कोलकाता 71 जैसे फिल्मों के जरिये भारत में समानांतर सिनेमा का मार्ग प्रशस्त किया।

1969 में कोरस भुवन शोमे, 1974 में कोरस, 1976 में मृगया तथा 1980 में अकालेर संधााने फिल्म को सर्वश्रेष्ठ फिल्म के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

भुवन शोमे, एक दिन प्रतिदिन, अकालेर संधाने और खानधार फिल्मों के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

वर्ष 2003 में उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

1983 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

उन्हें लगभग 12 अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हुए। इनमें बर्लिन अंतरराष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, कान फिल्म पुरस्कार, वेनिस फिल्म पुरस्कार शामिल हैं।

वे बर्लिन एवं मास्को अंतरराष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के जूरी के भी सदस्य रहे।