प्रफुल्ल पटेल फीफा परिषद के सदस्य चुने जाने वाले पहले भारतीय

0
65

हाल ही में एशियाई फुटबॉल परिसंघ (एएफसी) की ओर से चुने गए पांच सदस्यों में प्रफुल्ल पटेल को भी फीफा (फुटबॉल की विश्व नियामक संस्था) परिषद का सदस्य चुना गया है। इससे पहले किसी भी भारतीय को फीफा परिषद में ना तो सदस्य के रूप में और ना ही किसी अन्य पद में नियुक्त किया गया था।

प्रफुल्ल पटेल को फीफा परिषद का सदस्य बनाये जाने के लिए वोट डलवाये गये थे जिसमें से 46 में से पटेल को 38 मत मिले। 5 अप्रैल 2019 को कुआलालंपुर में एएफसी के 29वें कांग्रेस के दौरान यह चुनाव हुए। फीफा परिषद के सदस्यों का चयन वर्ष 2019 से 2023 तक के लिए किया गया है।

प्रफल्ल पटेल के अलावा फीफा परिषद के सदस्य के रूप में अल-मोहन्नदी (कतर), मारियानों वी. अरनेटा जूनियर (फिलीपीन), खालिद अवाद अल्तेबिती (सऊदी अरब), चुंग मोंग ग्यू (कोरिया), दू झोकोई (चीन), मेहदी ताज (ईरान) तथा कोह्जो तशिमा (जापान) इत्यादि उम्मीदवारों ने उम्मीदवारी जताई थी।

ध्यान देने योग्य है कि प्रफुल्ल पटेल के नेतृत्व में एआईएफएफ को मनीला में वर्ष 2014 में एएफसी वार्षिक पुरस्कारों में जमीनी स्तर पर फुटबॉल को बढ़ावा देने के लिए ‘एएफसी के प्रेसिडेशियल अवार्ड’ से सम्मानित किया गया था। इसके बाद वर्ष 2016 में एएफसी ने एआईएफएफ को सर्वश्रेष्ठ विकासशील सदस्य संघ हेतु पुरस्कारित किया था।

भारत ने प्रफुल्ल पटेल के नेतृत्व में फीफा अंडर-17 विश्वकप की सफल मेजबानी की जिसकी सराहना एक बड़े स्तर में हुई। भारत को वर्ष 2020 में अंडर-17 महिला विश्वकप की मेजबानी सौंपी गई है जिसका श्रेय प्रफुल्ल पटेल को जाता है।