प्रणब मुखर्जी, नानाजी देशमुख एवं भुपेन हजारिका को भारत रत्न

0
160

भारत सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी, भारतीय जन संघ नेता स्वर्गीय नाना देशमुख एवं गायक भुपेन हजारिका को भारत रत्न सम्मान से विभूषित करने की घोषणा की है। नाना देशमुख एवं भुपेन हजारिका को मरणोपरांत सम्मानित करने की घोषणा की गई है।

भुपेन हजारिका पार्श्वगायक, गीतकार, संगीतकार, कवि व फिल्मकार थे। पूर्वोत्तर भारत में एकता स्थापित करने में उनकी महत्ती भूमिका रही है। उन्हें पद्मश्री व पद्मभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है।

  • नाना जी देशमुख शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम कर चुके थे। वह भारतीय जन संघ के साथ-साथ राज्यसभा के भी सदस्य रह चुके हैं। उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है।
  • श्री प्रणब मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति रह चुके हैं। वे वर्ष 2012-2017 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। राष्ट्रपति बनने से पहले वे यूपीए-2 शासन में देश के वित्त मंत्री थे।
  • वर्ष 2014 में वैज्ञानिक प्रो. सीएनआर राव व क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर को सम्मानित करने के पश्चात उपर्युक्त तीन विशिष्ट व्यक्तियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा।

भारत रत्न सम्मान:

यह भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह पुरस्कार कला, साहित्य व विज्ञान में उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया जाता है। इस पुरस्कार की शुरूआत वर्ष 1954 में आरंभ हुयी।

इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाले प्रथम व्यक्ति वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकट रमण थे। इस पुरस्कार से सम्मानित होने वाले दो गैर-भारतीय थेः खान अब्दुल गफ्फार खान व नेल्सन मंडेला (1990)।