प्रख्यात उपन्यासकार दिब्येंदु पालित का निधन

0
96

बांग्ला भाषा के मशहूर उपन्यासकार दिब्येंदु पालित का 03 जनवरी 2019 को कोलकाता में निधन हो गया। वह 79 साल के थे।

पालित ने साहित्य की तमाम विधाओं में लिखा, लेकिन उन्हें सर्वाधिक ख्याति उपन्यासकार के रूप में मिली। उनके 42 उपन्यास, 26 कहानी-संग्रह, 10 कविता संग्रह और चार निबंध संग्रह प्रकाशित हैं। पालित को उनके उपन्यास ‘अनुभव’ के लिए वर्ष 1998 में साहित्य अकादेमी पुरस्कार प्रदान किया गया था। इससे पहले उन्हें 1990 में ‘देहु’ उपन्यास के लिए बंकिमचंद्र स्मृति पुरस्कार और ‘सहयोद्धा’ उपन्यास के लिए 1984 में ‘आनंद पुरस्कार’ प्रदान किए जा चुके थे। पालित की कई कृतियों पर मृणाल सेन, तपन सिन्हा और बुद्धदेब बसु जैसे दिग्गज निर्देशकों ने फिल्में बनाईं।

पालित का जन्म बिहार के भागलपुर में 5 मार्च 1939 में हुआ था। उन्होंने जाधवपुर विश्वविद्यालय से तुलनात्मक साहित्य का अध्ययन किया था। उनकी पहली कहानी ‘छन्दोपातन’ 1955 में आनंदबाजार पत्रिका में छपी थी। उन्होंने एक पत्रकार के रूप में भी काम किया। वह आनंदबाजार पत्रिका के साथ वरिष्ठ संपादक के रूप में 20 साल से भी अधिक समय तक जुड़े रहे।