पोलियो प्रकोप के कारण पापुआ न्यू गिनी में आपातकाल घोषित

0
32

पापुआ न्यू गिनी में 18 साल बाद पोलियो का नया मामला सामने आया है। पापुआ न्यू गिनी को 18 साल पहले पोलियो मुक्त घोषित कर दिया गया था। पापुआ न्यू गिनी में स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री पुका टेमू के अनुसार, देश में 13 महीने तक यह स्वास्थ्य आपातकाल रहेगा।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डबल्यूएचओ) के अनुसार, इस वर्ष अप्रैल में छह साल के बच्चे में पोलियो का वायरस पाया गया और इस तरह के संक्रमण के निशान समान समुदाय के स्वस्थ बच्चों में भी देखने को मिल रहे हैं।

पोलियोः

पोलियो का पूरा नाम पोलियोमेलाइटिस है जो मुख्यतः पांच वर्ष या इससे कम उम्र के बच्चों को हो जाता है। पोलिया का वायरस मुह से होते हुए पेट में जाता है और वहां आंतों को कमजोर बनाता है। पोलिया को कोई इलाज नहीं हैं परन्तु यदि सही समय में पांच साल की उम्र तक पोलियो ड्रॉप एवं टीके लगावाये गये तो पोलियो का खतरा टल जाता है। पोलियो वायरस से पीडितो में सिर्फ 1 प्रतिशत लोग की फ्लेसीड पक्षाघात के शिकार होते हैं। वर्ष 1988 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने विश्व को पोलियो मुक्त घोषित करने का अभियान चलाया था।