नंदन नीलकणि डिजिटल पेमेंट समिति के चेयरमैन बने

0
112

08 जनवरी 2019 को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को देश में डिजिटल पेमेंट को बेहतर तरीके से लागू करने और सुविधाओं में बढ़ोतरी करने हेतु नई समिति बनाई है। इस समिति का चेयरमैन इंफोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलकणि को बनाया गया है। नंदन नीलकणि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

नंदन नीलकणि को इस समिति का अध्यक्ष बनाया गया है जबकि उनके अलावा इसमें सीआईआईई के चीफ इनोवेशनआफिसर संजन जैन, विजया बैंक के पूर्व सीईओ किशोर सांसी, मिनिस्ट्री ऑफ इन्फॉरमेशन के मुख्य सचिव अरूणाशर्मा को भी शामिल किया गया है।

इस समिति में कुल पांच सदस्य हैं जिसका काम डिजिटल पेमेंट को तेजी से आगे बढ़ाना है। इस समिति का काम होगा कि रेग्युलेटर को क्या कदम उठाना चाहिए, उपभोक्ताओं के पैसे को सुरक्षित रखने के लिए क्या करना होगा, इंटरनेट बैंकिंग को सुरक्षित और बेहतर बनाने के लिए क्या कदम उठाने होंगे। इस समिति को 90 दिनों के अन्दर रिपोर्ट सौंपनी होगी।

भारत में आधार को लागू करने का श्रेय इंफोसिस के सह संस्थापक नंदन नीलकणि को जाता है। उन्होंने देश के प्रत्येक नागरिक को विशिष्ट पहचान देने के लिए भारत सरकार की आधार योजना को सफलतापूर्वक लागू करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ध्यान देने योग्य है कि वर्ष 2006 में नंदन नीलकणि को भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है।