दिसंबर समसामयिकी : भाग 2

0
209

इस लेख में कुछ महत्वपूर्ण घटनाओं का सारांश सम्मिलित किया जा रहा है। अपनी परीक्षा की तैयारी हेतु इसका ध्यानपूर्वक अध्ययन करें।

1. मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ में मंत्रिमंडल विस्तार हुआ:

मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में 25 दिसम्बर को मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ। मध्यप्रदेश में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 28 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई। इन मंत्रियों में दो महिलाएँ और एक निर्दलीय शामिल हैं। विधानसभा चुनाव में जीत के बाद कांग्रेस के नेता कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद के रूप में 17 दिसंबर को शपथ ग्रहण की थी।

छत्‍तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी अपने मंत्रिमण्‍डल का विस्तार किया। इस मंत्रिमण्‍डल विस्तार में राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल ने 9 नये मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की विजय के बाद 17 दिसम्‍बर को मुख्‍यमंत्री भुपेश बघेल के साथ टीएस सिंह देव और ताम्रध्‍वज साहू ने मंत्री पद की शपथ ली थी।

2. सामाजिक कार्यकर्ता सुलागिट्टी नरसम्मा का निधन:

कर्नाटक के पिछड़े इलाके कृष्णापुरा में बिना चिकित्सकीय सहायता के पारंपरिक तरीके से प्रसव कराकर 15 हजार से अधिक बच्चों को जन्म दिलाने वाली 98 वर्षीय सुलागिट्टी नरसम्मा का 25 दिसंबर को निधन हो गया। नरसम्मा कर्नाटक में ‘जननी अम्मा’ के नाम से मशहूर थीं। उन्हें समाज सेवा के लिए साल 2018 में ही केंद्र सरकार ने पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया था।

3. भारत का प्रथम संगीत संग्रहालय थिरुवैयारु में स्थापित होगा:

भारत का प्रथम संग्रीत संग्रहालय केंद्र सरकार की सहायता से तमिलनाडु के तंजावुर के थिरुवैयारु (Thiruvaiyaru) में स्थापित किया जाएगा। थिरुवैयारु कर्नाटक संग्रीत के त्रिरत्नों में से एक संत त्यागराज की जन्मभूमि है। दो अन्य रत्न हैंः मुथुस्वामी दिक्षितार व स्यामा शास्त्री।

ध्यान देने योग्य है कि थिरुवैयारु में प्रतिवर्ष जनवरी माह में त्यागराज अराधाना संगीत महोत्सव के माध्यम से कर्नाटक संगीत को जीवन देने का प्रयास किया जाता रहा है। इस महोत्सव में देश-विदेश के संगीतज्ञ भाग लेते हें।