तेलंगाना के दो सिंचाई केंद्रों को सिंचाई विरासत का दर्ज़ा मिला

0
226

हाल ही में तेलंगाना स्थित दो सिंचाई परियोजनाओं “सदरमट्ट एनिकट तथा पेड्डा चेरूवु” को अंतर्राष्ट्रीय सिंचाई एवं नहर आयोग (ICID) के तहत ‘विरासत सिंचाई परियोजनाओं’ के रूप में पंजीकृत किया गया है।

सदरमट्ट एनिकट:

  • यह तेलंगाना के निर्मल ज़िले में गोदावरी नदी पर निर्मित है।
  • इस बांध का निर्माण नवाब विकार उल उमरा बहादुर ने करवाया था। 
  • अपने निर्माण के समय से ही यह बांध खानपुर तथा कादेम में 13,100 एकड़ के क्षेत्र में सिंचाई सुविधा प्रदान करता है।

पेड्डा चेरूवु:

  • यह तेलंगाना के कमारेड्डी ज़िले में स्थित है।
  • इसका निर्माण 1897 में हैदराबाद राज्य के छठे निजाम मीर महबूब अली खान के शासनकाल के दौरान किया गया था। 
  • यह 618 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है।

अंतर्राष्ट्रीय सिंचाई एवं नहर आयोग (ICID):

अंतर्राष्ट्रीय सिंचाई एवं नहर आयोग की स्थापना वर्ष 1950 में हुई थी। यह एक प्रमुख वैज्ञानिक, तकनीकी, अंतर्राष्ट्रीय गैर-लाभकारी, गैर-सरकारी संगठन है। ICID सिंचाई, जल निकासी और बाढ़ प्रबंधन के क्षेत्र में दुनिया भर के पेशेवर विशेषज्ञों का एक नेटवर्क है।