जोधपुर देश का सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशन: सर्वेक्षण रिपोर्ट

0
28

रेल मंत्री पीयूष गोयल द्वारा स्टेशनों की सफाई रैंकिंग सर्वे 13 अगस्त 2018 को जारी किया गया। स्वच्छता अभियान में ए-1 और ए श्रेणी के 407 स्टेशनों के अलावा 600 और स्टेशन शामिल किए गये हैं। यह वार्षिक सर्वेक्षण अब प्रत्येक छह माह में किया जायेगा।

मुख्य बिंदु:

  • रेलवे स्टेशन सर्वेक्षण की ए-1 श्रेणी में राजस्थान का जोधपुर स्टेशन साफ-सफाई में सबसे आगे रहा। दूसरे स्थान पर जयपुर और आंध्र प्रदेश का तिरुपति तीसरे स्थान पर रहा।
  • पिछले वर्ष पहले स्थान पर विशाखापट्‌टनम था।
  • लखनऊ स्टेशन छठे स्थान से 64वें पर पहुंचा जबकि मथुरा, ग्वालियर और हावड़ा सूचकांक में सबसे नीचे जगह पाकर देश के सबसे गंदे स्टेशनों में शामिल हुए।
  • आनंद विहार पांचवें स्थान पर और नई दिल्ली स्टेशन 39वें स्थान पर रहा। पटना स्टेशन पांच पायदान ऊपर चढ़कर 23वें स्थान पर और मुंबई 27वें स्थान से ऊपर चढ़कर 13वें स्थान पर आ गया।
  • मथुरा सबसे नीचे 75वें स्थान पर, ग्वालियर 73वें स्थान पर, हावड़ा 71वें स्थान पर जबकि वाराणसी 69वें स्थान पर रहा है।

रेल मंत्री ने सर्वेक्षण रिपोर्ट के आंकड़े जारी करते समय बताया कि रेलवे स्टेशनों की स्वच्छता रैंकिंग में औसतन 18 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2018 के सर्वे में 90 फीसदी से अधिक अंक हासिल करने वाले स्टेशनों की संख्या 39 रही है, जबकि 2017 में यह आंकड़ा शून्य था। वहीं, 80 फीसदी से अधिक अंक पाने वाले स्टेशनों की संख्या 90 से बढ़कर 161 हो गई है। इस प्रकार बेहतर रैंकिंग पाने के लिए रेलवे स्टेशन पहले से अधिक साफ-सफाई रखने लगे हैं।

ए-1 श्रेणी स्टेशन (75 में से)

एक श्रेणी स्टेशन (कुल 332 में से)

क्षेत्रीय रेलवे रैंकिंग

पहला: जोधपुर / उत्तर-पश्चिमी रेलवे

पहला: मारवाड़ / उत्तर पश्चिमी रेलवे

पहला: उत्तर पश्चिमी रेलवे

दूसरा: जयपुर / उत्तर-पश्चिमी रेलवे

दूसरा: फुलेरा / उत्तर-पश्चिमी रेलवे

दूसरा: दक्षिण मध्य रेलवे

तीसरा: तिरुपति / दक्षिण-मध्य रेलवे

तीसरा: वारंगल / दक्षिण-मध्य रेलवे

तीसरा: पूर्वी तट रेलवे