जोखा अल्हार्थी ने मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार 2019 जीता

0
6

ओमान की उपन्यासकार जोखा अल्हार्थी को वर्ष 2019 के मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।  उन्हें ‘सेलेस्टियल बॉडी’ उपन्यास के लिए सम्मानित किया गया है। यह उपन्यास ओमान के एक गांव अल-अवाफी की तीन बहनों की कहानी है जो अपने पूर्व की दासता एवं जटिल आधुनिक विश्व से लड़ रही हैं।

जोखा अल्हार्थी अरबी भाषा की प्रथम लेखिका हैं जिन्हें मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार जीतने वाली वह प्रथम ओमानी उपन्यासकार हैं।

जोखा अल्हार्थी यह पुरस्कार उनके उपन्यास के अंग्रेजी अनुवादक मैरिलीन बूथ के साथ साझा करेंगी और 50000 पौंड या 64000 डॉलर की पुरस्कार राशि दोनों के बीच वितरित किया जाएगा।

मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार:

  • मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार भी यूनाइटेड किंगडम की मैन ग्रुप संस्था द्वारा प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार किसी एकल उपन्यास को प्रदान किया जाता है जो विगत वर्ष अंग्रेजी में अनुवादित होकर इंगलैंड में प्रकाशित हो चुकी हो।
  • मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार की स्थापना 2004 में हुयी और प्रथम मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार 2005 में अल्बानियन लेखक इस्माइल कदारे को प्रदान किया गया था।
  • आधुनिक यात्राओं पर लिखित दार्शनिक चिंतन ‘फ्लाइट्स’ की लेखिका ओल्गा तोकार्कजुक को वर्ष 2018 के मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • वर्ष 2017 का मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार इजरायली लेखक डैविड ग्रॉसमैन को उनके उपन्यास ‘अ हॉर्स वाक इंटु अ बार’ के लिए प्रदान किया गया था।