चीन ने भारत से सोयाबीन आयात पर शुल्क खत्म किया

0
16

चीन की कैबिनेट ने 26 जून को घोषणा करते हुए कहा कि वह पांच एशियाई देशों से पशुओं की चारा सामग्री पर आयात शुल्क खत्म करेगा, जिसमें सोयाबीन, सोया खाद्य और सफेद सरसों भी शामिल है। यह फैसला 1 जुलाई, 2018 से लागू होगा।

चीन भारत के अलावा दक्षिण कोरिया, बांग्लादेश, लाओस और श्रीलंका से सोयाबीन, सोयाबीन की खल, सोया खाद्य, सफेद सरसों और फिशमील पर आयात शुल्क खत्म करेगा। अभी सोयाबीन पर यह शुल्क 3 प्रतिशत, सोयाबीन की खल व सोया खाद्य पर 5 प्रतिशत, सफेद सरसों पर 9 प्रतिशत और फिशमील पर 2 प्रतिशत था।

भारत के अलावा जो अन्य चार देश हैं, वे तुलनात्मक रूप से सोयाबीन के छोटे उत्पादक हैं। इनमें से किसी ने भी 2017 में चीन को कोई तिलहन निर्यात नहीं किया। अमेरिका के कृषि विभाग के आंकड़ों के अनुसार 2016-17 के विपणन वर्ष में भारत ने 1.1 करोड़ टन फलियों का उत्पादन किया लेकिन इसमें से केवल 2,69,000 टन का ही निर्यात किया गया। हालांकि देश ने वैश्विक रूप से 20 लाख टन से कुछ अधिक सोया खाद्य का निर्यात किया। भारत ने 2016-17 के दौरान 70 लाख टन सफेद सरसों का भी उत्पादन किया लेकिन इस फसल का कोई निर्यात नहीं किया गया।

ध्‍यान देने योग्‍य है कि जनवरी 2017 में थाईलैंड में किए गए एशिया-प्रशांत व्यापार समझौते के रूप में चीन 2,000 से अधिक वस्तुओं पर शुल्क घटाने पर सहमत हुआ है।