गुरु नानक देव जयंती 2019

0
16

आज देश भर के सिख समुदाय में गुरु नानक देव की जयंती मनाई जा रही है। वे सिख धर्म के संस्थापक थे। वे सिख धर्म के पहले गुरु थे। उनका जन्म पाकिस्तान के पंजाब में ननकाना साहिब में हुआ था। उनकी शिक्षाओं का संकलन सिख धर्म की धार्मिक पुस्तक गुरु ग्रन्थ साहिब में किया गया है। उनकी मृत्यु 22 सितम्बर, 1539 को पाकिस्तान के करतारपुर में हुई थी।

केन्द्र सरकार ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती को राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाने के फैसला लिया है। इस उत्सव में विभिन्न किस्म की गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त कीर्तन, प्रभात फेरी, कथा, लंगर जैसी धार्मिक गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा।

सरकार पंजाब में सुल्तानपुर लोधी का विकास भी करेगी, इस स्थान पर गुरु नानक देव ने अपने जीवन का एक बड़ा हिस्सा व्यतीत किया। इस शहर को विरासत शहर (पिंड बाबे नानक दा) के रूप में स्थापित किया जाएगा।

इस स्थान पर एक उच्च क्षमता युक्त टेलिस्कोप भी स्थापित किया जायेगा, इस टेलिस्कोप की सहायता से पाकिस्तान में करतारपुर साहिब को देखा जा सकेगा, करतारपुर साहिब में गुरु नानक देव ने अपने जीवन का अंतिम समय व्यतीत किया।

इस इवेंट के उपलक्ष्य आर्थिक मामले विभाग, वित्त मंत्रालय तथा डाक विभाग गुरु नानक देव की स्मृति में सिक्के तथा पोस्टल स्टैम्प भी जारी करेंगे।