केंद्र सरकार ने देश की सबसे लंबी सुरंग ‘जोजिला’ को मंजूरी दी

0
25

03 जनवरी 2018 को केन्द्र सरकार ने श्रीनगर से लेह के दुर्गम सड़क मार्ग को आसान बनाने वाली रणनीतिक ‘जोजिला सुरंग’ को पूर्ण रूप से मंजूरी प्रदान कर दी गई है। इस परियोजना को मंजूरी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट समिति ने प्रदान की।

इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य कश्मीर घाटी तथा लद्दाख के बीच हर मौसम में सम्पर्क सुविधा उपलब्ध कराना है। इस परियोजना से न सिर्फ रणनीतिक बल्कि पर्यटन के स्तर पर भी बड़ी मदद मिलेगी। जोजिला सुरंग परियोजना के लिए सबसे कम बोली लगाने वाली फर्म के रूप में उभरी है।

मुख्य तथ्य:

  • जोजिला सुरंग एनएच-1ए पर 95 किमी मील पत्थर को और 118 किमी मील पत्थर को सीधे जोड़कर दूरी को काफी कम कर देगी।
  • सात वर्ष में पूरी होने वाली 14.5 किलोमीटर लंबी इस सुरंग के निर्माण पर 6,809 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।
  • जोजिला सुरंग श्रीनगर-कारगिल-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित जोजिला पास के नजदीक बनेगी। यह समुद्र तल से 11,578 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।
  • यह सुरंग ऐसे भौगोलिक क्षेत्र में इंजीनियरिंग का बेजोड़ नमूना होगी। परियोजना से जोजिला दर्रा से गुजरने वाले यात्रियों की सुरक्षा बेहतर होगी और यात्रा समय 3.5 घंटे से कम होकर 15 मिनट हो जाएगा।
  • जोजिला सुरंग पर अगले साल जून से काम शुरू होने की उम्मीद है। इस बीच जम्मू-कश्मीर में इसी सड़क पर गगनगीर में 6.5 किलोमीटर जेड मोड सुरंग का निर्माण तेजी से हो रहा है।
  • इन दोनो सुरंगों के पूरा होने के बाद कश्मीर और लद्दाख क्षेत्रों का आपस में बारहमासी सड़क संपर्क शुरू हो जाएगा।
  • दोनो परियोजनाओं से क्षेत्र के आर्थिक विकास के साथ-साथ स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे।
  • यह परियोजना का कार्यान्यवन राष्ट्रीय राजमार्ग और बुनियादी ढांचा विकास निगम लिमिटेड NHIDCL) द्वारा किया जाएगा।
  • यह भारत और एशिया की सबसे लंबी सड़क सुरंग होगी। यह दो लेन वाली दुतरफा सिंगिल ट्यूब सुरंग होगी जिसके समानांतर एक अन्य एंग्रेस सुरंग का निर्माण आपातस्थिति में राहत और बचाव कार्यो के लिए किया जाएगा।