एसबीआई ने आईएमजीसी से समझौता किया

0
22

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने इंडिया मॉर्टगेज गारंटी कार्पोरेशन (आईएमजीसी) के साथ समझौता किया है। इस पेशकश से तय नियामकीय ढांचे में ही आवास ऋण पात्रता 15 फीसदी तक बढ़ जाएगी। इस समझौते के तहत अवैतनिक (अनपेड) और अपना रोजगार कर रहे संभावित ग्राहकों को होम लोन उपलब्ध कराया जाएगा। यह कर्ज गिरवी गारंटी योजना के तहत दिया जाएगा।

उसने यह पहल सस्ते आवास खंड में बढ़ती मांग को देखते हुए की है ताकि लक्षित वर्ग को बेहतर शर्तों पर आवास ऋण उपलब्ध करवाया जा सके। इस समझौते में संभावित ग्राहक को आईएमजीसी का रिस्क गारंटी कवर लेना होगा।

एसबीआई द्वारा दिए गए होम लोन पर आईएमजीसी बीमा कवर देगी। आईएमजीसी लोन पर बीमा कवर देती है। देश में होम लोन के बाजार में एसबीआई की करीब 20 फीसदी हिस्सेदारी है। इसका फोकस नौकरीपेशा लोगों को होम लोन देने पर है। आईएमजीसी से बीमा कवर मिलने के बाद लोन पर डिफॉल्ट होने पर एसबीआई का जोखिम घट जाएगा। इसके चलते यह होम लोन देने में उदारता बरत सकता है।

आईएमजीसी एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें नेशनल हाउसिंग बैंक (एनएचबी) और अमेरिकी बीमा कंपनी जेनवर्थ फाइनेंशियल की हिस्सेदारी है। इसमें इंटरनेशल फाइनेंस कॉर्पोरेशन (आईएफसी) और एशियन डेवलपमेंट बैंक का भी निवेश है।