एशिया पावर इंडेक्‍स में भारत चौथे स्‍थान पर

0
46

ऑस्‍ट्रेलिया के थिंक टैंक लॉवी इंस्‍टीट्यूट एशिया पावर इंडेक्‍स में भारत को एशिया-प्रशांत के 25 देशों में चौथे स्थान दिया गया। इसमें देशों की ताकत का आकलन 8 बिंदुओं (आर्थिक संसाधन, सैन्‍य क्षमता, लचीलापन, फ्यूचर ट्रेंड्स, राजनयिक प्रभाव, इकोनॉमिक रिलेशनशिप, डिफेंस नेटवर्क और सांस्‍कृतिक प्रभाव) के तहत व्यक्त किया जाता है।

  • आर्थिक संसाधन, सैन्‍य क्षमता, राजनयिक प्रभाव के मामले में भारत चौथे स्थान पर रहा,लेकिन लचीलेपन के मामले में भारत का 5वाँ जबकि सांस्‍कृतिक प्रभाव और फ्यूचर ट्रेंड्स में भारत का स्‍थान तीसरा रहा।
  • सबसे खराब प्रदर्शन इकोनॉमिक रिलेशनशिप और डिफेंस नेटवर्क में दर्ज किया गया, जिनमें भारत की रैंकिंग क्रमश: 7वीं और 10वीं रही।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, पावर स्‍टेटस का बड़ा हिस्‍सा जापान और भारत के हिस्‍से में है। टोक्‍यो स्‍मार्ट पावर है, जबकि नई दिल्‍ली भविष्‍य की ताकत है।
  • इस रिसर्च की मानें तो दुनिया की 4 सबसे सबसे बड़ी इकोनॉमी में से तीन एशिया में हैं। 
  • इस रिपोर्ट के अनुसार,भारत एशिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाली इकोनॉमी बनने की ओर अग्रसर है।
  • वहीं रूस, ऑस्‍ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, मलेशिया, इंडोनेशिया, थाइलैंड, न्‍यूज़ीलैंड, वियतनाम, पाकिस्‍तान, ताइवान, फिलीपींस और उत्तर कोरिया को मिडिल पावर का दर्जा दिया गया है, जबकि बांग्‍लादेश, ब्रुनेइ, म्‍याँमार, श्रीलंका, कंबोडिया, मंगोलिया, लाओस और नेपाल को मामूली ताकत का दर्जा दिया गया है।