एयू स्मॉल फायनेंस बैंक को अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक की मंजूरी

0
43

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने एयू स्मॉल फायनेंस बैंक को अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक के तौर पर काम करने की अनुमति दे दी है। इस बैंक का नाम अब भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 की दूसरी अनुसूची में शामिल किया गया है। अनुसूचित बैंक बनने के बाद अब फायनेंस बैंक आरबीआई से ऋण ले सकेगा और इसके साथ ही एयू बैंक आरबीआई के पास अधिक नकदी भी जमा करा सकेगा।

मुख्‍य तथ्‍य:

  • अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक बनने के बाद एयू स्मॉल फायनेंस बैंक किफायती ब्याज दारों पर जमा प्रमाण पत्र (सर्टिफिकेट ऑफ डीपॉजिट) जारी कर पाएगा।
  • इसके साथ ही एयू स्मॉल फाईनेंस बैंक सरकारी संस्थाओं, अन्य कॉर्पोरेट्स, बैंकों, म्यूच्युअल फंड, बीमा कंपनियों और उन सभी बाजार की अन्य प्रतिभागी संस्थाओं के साथ लेन-देन कर सकेगा, जो केवल किसी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक से ही लेन-देन कर सकते थे।
  • अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक बनने के बाद एयू स्मॉल फायनेंस बैंक किफायती ब्याज दारों पर जमा प्रमाण पत्र (सर्टिफिकेट ऑफ डीपॉजिट) भी जारी कर पाएगा।
  • एयू स्मॉल फायनेंस का मुख्यालय जयपुर, राजस्थान में स्थित है और एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक को अप्रैल 2017 में ही स्थापित किया गया था, सिर्फ सात महीने के भीतर इसने एक अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक का दर्जा हासिल किया है।
  • वर्तमान में एयू की 301 शाखाएं और 113 एसेट सेंटर, 23 कार्यालय, 287 एटीएम भारत के 11 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में कार्यरत हैं। 30 सितम्बर, 2017 के आंकड़ों के अनुसार एयू की कुल डिपॉजिट 2000 करोड़ रुपये से अधिक व ऋण बुक 12134 करोड़ रुपये की है।
  • वर्तमान प्रबंध निदेशक और सीईओएल – संजय अग्रवाल

अनुसूचित बैंक: 

भारत में अनुसूचित बैंक, वह बैंक हैं जिन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अधिनियम, 1934 की द्वितीय अनुसूची में शामिल किया गया है। रिजर्व बैंक इस अनुसूची में केवल उन बैंकों को ही शामिल करता है जो, उपर्युक्त अधिनियम की धारा 42(6) (क) के मानदंडों का अक्षरक्ष पालन करते हों।

30 जून 1999 तक भारत में कुल 300 अनुसूचित बैंक थे जिनका कुल नेटवर्क 64918 शाखाओं का था। भारत में अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक और उसके सहयोगी (8), राष्ट्रीयकृत बैंक (19), विदेशी बैंक (45), निजी क्षेत्र के बैंक (32), सहकारी बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक शामिल हैं।