उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने संबंधी प्रस्ताव को मंजूरी दी

0
149

उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने संगम नगरी इलाहाबाद का नाम बदलकर ‘प्रयागराज’ करने संबंधी प्रस्ताव को 16 अक्टूबर, 2018 को मंजूरी दे दी। राज्य कैबिनेट के अनुसार यह नाम परिवर्तन नहीं बल्कि 500 वर्ष पहले की स्थिति बहाल की गई है।

प्रयाग का इतिहास:

  • प्रयाग का इतिहास काफी पुराना है। इसका उल्लेख वेदों में भी मिलता है। यहां से 600-700 ई-पू- के उत्तरी काल पॉलिश मृदभांड प्राप्त हुए हैं।
  • हिंदू मिथक के अनुसार ब्रह्मा ने ‘प्रकृस्ता यज्ञ’ के लिए इस जगह को चुना था और इसे तीर्थ राज कहा।
  • ब्रह्म पुराण में प्रयाग में स्नान का उल्लेख है।
  • पुराणों में उल्लेख है कि ययाति ने प्रयाग छोड़ा और सप्तसिंधु पर विजय प्राप्त की।
  • महाजनपद काल में प्रयाग कौशाम्बी का हिस्सा था।
  • यहां से अशोक स्तंभ व समुद्रगुप्त की प्रयाग प्रशस्ति प्राप्त हुई है जिसका लेखक हरिषेण था। इसमें समुद्रगुप्त के विजय अभियानों एवं अपनाई गई नीतियों का उल्लेख है।
  • मुगल शासक अकबर ने 1575 में संगम किनारे किला बनवाया और इसका नाम इलाहाबाद रखा जिसका फारसी में मतलब होता है ‘खुदा का घर’।