उत्तरी मेसिडोनिया नाटो का 30वां सदस्य होगा

0
192

बाल्कन देश उत्तरी मेसिडोनिया गणराज्य उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन यानी नाटो (North Atlantic Treaty Organisation: NATO) का 30वां सदस्य होगा। 6 फरवरी, 2019 को ब्रुसेल्स स्थित नाटो मुख्यालय में उत्तरी मेसिडोनिया नाटो प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर करेगा।

नाटो के महासचिव जेन स्टोलेनबर्ग ने 2 फरवरी, 2019 को एक ट्वीट के जरिये जानकारी दी कि 29 सदस्यीय नाटो 6 फरवरी, 2019 को मेसिडोनिया के शामिल होने के साथ ही 30 सदस्यीय हो जाएगा।

उल्लेखनीय है कि विगत तीन दशकों से मेसिडोनिया के नाटो में प्रवेश करने का यूनान विरोध करता रहा है। मेसिडोनिया के नाम से यूनान का एक प्रांत भी है और यूनान का मानना रहा है कि मेसिडोनिया नाम से उसके प्रांत पर संप्रभूता का ऐहसास करता है। इसी आधार पर दोनों देशों के मध्य समझौता हुआ और मेसिडोनिया ने अपना नाम उत्तरी मेसिडोनिया गणराज्य कर लिया। इसके पश्चात यूनान ने नाटो में शामिल होने के मेसिडोनिया के प्रयास का समर्थन किया।

नाटो:

नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गनाइजेशन (NATO) उत्तरी अमेरिका और यूरोप के 29 देशों का एक गठबंधन है जो 4 अप्रैल 1949 को हस्ताक्षरित नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। संधि के अनुसार, नाटो की मूल भूमिका राजनीतिक और सैन्य तरीकों से अपने सदस्य देशों की स्वतंत्रता और सुरक्षा की रक्षा करना है। नाटो आपदा प्रबंधन और शांति व्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स(बेल्जियम) में है।