असम स्थित माजुली द्वीप पर पहली बार रो-रो सेवा की शुरूआत हुई

0
182

असम सरकार तथा भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण द्वारा संयुक्त रूप से माजुली द्वीप पर रोल-ऑन-रोल-ऑफ (रो-रो) सेवा आरंभ की गयी। यह फेरी सेवा असम में पहली बार लॉन्च की गयी है। रोल-ऑन-रोल-ऑफ (रो-रो) सेवा को असम स्थित नीमती तथा माजुली द्वीप के मध्य आरंभ किया गया है।

इस रो-रो सुविधा के कारण लगभग 421 किलोमीटर की सड़क मार्ग की दूरी घटकर मात्र 12.7 किलोमीटर रह गयी है। सवारी जलयान का नाम एमवी भूपेन हज़ारिका रखा गया है। इसकी लम्बाई 46.5 मीटर है तथा इसकी चौड़ाई 13.3 मीटर है।

यह जलयान एक बार में आठ ट्रक तथा 100 यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने की क्षमता रखता है। इसकी स्पीड 22 किलोमीटर प्रति घंटा है जो कि नदी में चलने वाले जलयान के लिये पर्याप्त है। इसके दो मुख्य इंजन है जबकि दो अन्य इंजनों को आपातकाल स्थिति के लिये रिज़र्व में रखा गया है।

इससे पहले गुजरात के घोघा और दाहेज के बीच रो-रो फेरी सेवा आरम्भ की जा चुकी है।

रोल ऑन, रोल ऑफ (रो-रो)फेरी सेवा से तात्पर्य उस प्रकार की यात्रा सेवा से हैं जिनकी सहायता से जल मार्ग पर एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाया जाता है। यह स्थानीय स्तर पर आरंभ की जाने वाली यात्रायें होती हैं। इसमें मौजूद जलयान द्वारा ट्रक, कार जैसे वाहनों सहित मनुष्य भी एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करते हैं।