अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार 2018

0
309

नोबेल पुरस्कार समिति द्वारा अमेरिकी अर्थशास्त्री विलियम डी नॉर्डहॉस और पॉल एम रोमर को संयुक्त रूप से वर्ष 2018 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा की गयी है। रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ इकोनॉमिक्स ने जलवायु परिवर्तन और आर्थिक विकास पर खोज के लिए इन्हें यह पुरस्कार देने का फैसला किया है।

दोनों अर्थशास्त्री, विलियम डी नॉर्डहॉस और पॉल एम रोमर, मैक्रोइकनॉमिक्स (सूक्ष्म अर्थशास्त्र) से संबंध रखते हैं।

येले विश्वविद्यालय के डी नॉर्डहॉस विगत चार दशकों से सरकारों को समझाने का प्रयास कर रहे हैं कि वे जलवायु परिवर्तन को संबोधित करें, इसलिए वे कार्बन उत्सर्जन पर कर आरोपित (कार्बन टैक्स) करने की वकालत करते आ रहे हैं। उन्हें ‘जलवायु परिवर्तन अर्थशास्त्र का जनक’ कहा जाता है।

इसी तरह प्रो.रोमर न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस में पढ़ाते हैं. उन्होंने अपने शोध में दर्शाया कि आखिर कैसे आर्थिक शक्तियां कंपनियों को नए आइडिया और तकनीके तैयार करने के लिए प्रेरित करती हैं।

रॉयल स्वीडिश अकादमी के इस पुरस्कार के तहत 10 मिलियन डॉलर की राशि पुरस्कारस्वरूप प्रदान की जाती है।

अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार को स्वेरिज रिक्सबैंक पुरस्कार कहा जाता है जिसकी स्थापना 1969 में हुई थी।