अरविंद सक्सेना UPSC के चेयरमैन नियुक्त

0
160

राष्ट्रपति ने 28 नवंबर, 2018 को अरविंद सक्सेना को संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। श्री सक्सेना इस पद पर 7 अगस्त, 2020 तक रहेंगे जब वे 65 वर्ष के हो जाएंगे। उनसे पहले विनय मित्तल यूपीएससी के चेयरमैन थे।

अरविंद सक्सेना को 8 मई 2015 को यूपीएससी का सदस्य बनाया गया था। उन्होंने दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग और आईआईटी, दिल्ली से पढ़ाई की है। वे भारतीय डाक सेवा में 1978 बैच के अधिकारी रहे हैं। वर्ष 1988 में भारतीय डाक सेवा से रॉ में प्रतिनियुक्ति पर आने वाले सक्सेना को पड़ोसी देशों में रणनीतिक विकास के अध्ययन का विशेषज्ञ माना जाता है। विभिन्न देशों के अलावा जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हिमाचल में वह अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

अरविंद सक्सेना को वर्ष 2014 में एविएशन रिसर्च सेंटर (ARC) में विशेष सचिव के तौर पर नियुक्त किया गया था। एआरसी वायुसेना की विशेष फ्रंटियर फोर्स के कमांडो को ट्रांसपोर्ट उपलब्ध कराती है। यह संस्था देश के सीमावर्ती इलाकों में मानवरहित विमानों के जरिए निगरानी का काम भी करती है।

उन्हें अपने सेवाकाल के दौरान विशिष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित भी किया जा चुका है। उन्हें वर्ष 2005 में मेरिटोरियस सर्विस अवार्ड और वर्ष 2012 में अतिविशिष्ट सेवा के लिए अवार्ड मिल चुका है।

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC):

संघ लोक सेवा आयोग भारत के संविधान द्वारा स्थापित एक संवैधानिक निकाय है जो भारत सरकार के लोकसेवा के पदाधिकारियों की नियुक्ति के लिए परीक्षाओं का संचालन करती है। संविधान के अनुच्छेद 315-323 में एक संघीय लोक सेवा आयोग और राज्यों के लिए राज्य लोक सेवा आयोग के गठन का प्रावधान है। आयोग के सदस्य राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त होते हैं। इनका कार्यकाल 6 वर्षों या 65 वर्ष की उम्र (जो भी पहले आए) तक का होता है।