अमेनिका ने ईरानी सेना IRGC को आतंकी संगठन घोषित किया

0
112

08 अप्रैल 2019 को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरानी सेना रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (IRGC) को आतंकी संगठन घोषित कर दिया है। यह पहली बार है जब अमेरिका ने किसी अन्य देश की सेना को आतंकी संगठन घोषित किया हो। ईरान ने भी अमेरिका की ‘सेंट्रल कमांड को आतंकी संगठन घोषित कर दिया है।

अमेरिका ने ईरानी सेना रिवॉल्यूशनरी गॉर्ड कॉर्प्स और इससे सम्बंधित संस्थानों पर पहले से ही आतंकवाद का समर्थन देने और मानवाधिकार के उल्लंघन का आरोप लगाता रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ईरान द्वारा अप्रत्याशित कदम यह याद दिलाता है कि ईरान न सिर्फ आतंकवाद को प्रायोजित करता है बल्कि IRGC IRGC आतंकवाद को धन मुहैया कराने और उसे बढ़ावा देने में सक्रियता से लगा है।

ध्यान देने योग्य है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका और ईरान के मध्य हुए परमाणु समझौते को खत्म कर दिया है जिसके बाद से वाशिंगटन और तेहरान के मध्य तनाव बढ़ गया है।

IRGC:

IRGC ईरान के आर्म्ड फोर्स का एक हिस्सा है। इसका पूरा नाम इस्लामिक रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स है। इसका गठन वर्ष 1979 में इस्लामी क्रांति के बाद आया है। IRGC देश में इस्लामी गणतंत्र प्रणाली की रक्षा करती है। इस संगठन का मुख्य उद्देश्य नई हुकूमत की हिफाज़त और सेना के साथ सत्ता में सन्तुलन बनाये रखना है।

इस संगठन की कमान ईरान के सुप्रीम लीडर के हाथ में होती है। ईरान में सुप्रीम लीडर देश के सशस्त्र बलों का सुप्रीम कंमाडर भी होता है। जो इस संगठन के अहम पदों पर अपने पुराने सियासी साथियों की नियुक्ति भी करता है ताकि इस संगठन पर उसकी पकड़ मजबूत बनी रहे। ऐसा माना जाता है कि IRGC ईरान की अर्थव्यवस्था के एक तिहाई हिस्से को नियंत्रित करता है। इसका नियंत्रण अलग-अलग क्षेत्रों मे काम कर रही चैरिटी संस्थानों और कंपनियों पर भी है।