अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : 21 जून

0
28

प्रत्येक वर्ष 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस उस समय अस्तित्व में आया जब सितंबर 27, 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने विश्व समुदाय के सामने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव रखा। मोदी जी के इस प्रस्ताव के तीन महीनों के अन्दर ही संयुक्त राष्ट्र ने इस मुद्दे पर अपनी सहमति जता दी।

21 जून ही क्यों:

पूरे कैलेंडर वर्ष का सबसे लंबा दिन. प्रकृति, सूर्य और उसका तेज इस दिन सबसे ज्यादा प्रभावी रहता है।

योग:

योग व्यायाम का ऐसा प्रभावशाली प्रकार है, जिसके माध्याम से न केवल शरीर के अंगों बल्कि मन, मस्तिष्क और आत्मा में संतुलन बनाया जाता है। 

योग शब्द की उत्पत्त‍ि संस्कृति के युज से हुई है, जिसका मतलब होता है आत्मा का सार्वभौमिक चेतना से मिलन। योग लगभग दस हजार साल से भी अधिक समय से अपनाया जा रहा है। वैदिक संहिताओं के अनुसार तपस्वियों के बारे में प्राचीन काल से ही वेदों में इसका उल्लेख मिलता है। सिंधु घाटी सभ्यता में भी योग और समाधि को प्रदर्श‍ित करती मूर्तियां प्राप्त हुईं। 

योग की प्रमाणिक पुस्तकों जैसे शिवसंहिता तथा गोरक्षशतक में योग के चार प्रकारों का वर्णन मिलता है –

  1. मंत्रयोग, जिसके अंतर्गत वाचिक, मानसिक, उपांशु आर अणपा आते हैं।
  2. हठयोग
  3. लययोग
  4. राजयोग, जिसके अंतर्गत ज्ञानयोग और कर्मयोग आते हैं।