अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस : 22 मई

0
22

22 मई को जैव विविधता के संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से दुनिया भर में जैव विविधता अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है। इसका मुख्य ध्यान ऐसे पर्यावरण का निर्माण करना है, जो जैव विविधता में समृद्ध, टिकाऊ और आर्थिक गतिविधियों के लिए अवसर प्रदान कर सके। वर्ष 2019 के लिए इस दिवस की थीम ‘हमारी जैव विविधता, हमारा खाद्य एवं हमारा स्वास्थ्य’ है।

आज पूर्वजों की तुलना में हमारे समक्ष भोजन की काफी विविधता मौजूद है हालांकि इस विविधता के बावजूद हम जो खा रहे हैं वह अधिक होमोजेनाइज्ड होती जा रही है जो चिंता का मुख्य विषय है। इस वर्ष की थीम भी इसलिए जैवविविधता को भोजन की उपलब्ध विविधता व स्वास्थ्य चिंताओं के परिप्रेक्ष्य में रखी गई है। इस थीम का उद्देश्य हमारी खाद्य प्रणाली में बदलाव व मानव स्वास्थ्य में सुधार के उत्प्रेरक रूप में हमारे भोजन व स्वास्थ्य के आधार के रूप में जैव विविधता को रखना है।

जैव विविधता जीवन और विविधता के संयोग से निर्मित शब्द है जो आम तौर पर पृथ्वी पर मौजूद जीवन की विविधता और परिवर्तनशीलता को संदर्भित करता है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (युएनईपी), के अनुसार जैव विविधता विशिष्टतया अनुवांशिक, प्रजाति, तथा पारिस्थितिकि तंत्र के विविधता का स्तर मापता है। जैव विविधता किसी जैविक तंत्र के स्वास्थ्य का द्योतक है। पृथ्वी पर जीवन आज लाखों विशिष्ट जैविक प्रजातियों के रूप में उपस्थित हैं। सन् 2010 को जैव विविधता का अंतरराष्ट्रीय वर्ष, घोषित किया गया है।

जैव विविधता तीन प्रकार की होती हैः

  1. अनुवांशिक विविधता, एक ही प्रजाति के जीवों में होने वाली विविधताओं को कहते हैं।
  2. प्रजाति विविधता, जिसमें एक ही प्रजाति के जीव एक-दूसरे से काफी समानता रखते हैं।
  3. पारिस्थितिकीय विविधता, जो आवास एवं जैव समुदाओं के अंतर को प्रदर्शित करती है।

पृष्ठभूमि:

नैरोबी में 29 दिसंबर 1992 को हुए जैव-विविधता सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया था, किंतु कई देशों के व्यावहारिक कठिनाइयां जाहिर करने के कारण इस दिन को 29 मई की बजाय 22 मई को मनाने का निर्णय लिया गया।

वैश्विक नेताओं ने भविष्य की पीढ़ियों के लिए एक जीवित नक्षत्र सुनिश्चित करते हुए वर्तमान जरूरतों को पूरा करने के लिए ‘सतत विकास’ की एक व्यापक रणनीति पर सहमति व्यक्त की थी। 193 सरकारों ने इस पर हस्ताक्षर किए गए थे। भारत सीबीडी का एक पक्षकार है।